बोल रहा हिन्दुस्तानी है
अमर उजाला
तुम मुझे नहीं आजमाना इस जमाने में पुराने राह की मुसाफ़िर हूँ कोई मुझे क्या बतलाएगा बचपन से सातिर हूँ जो ठोकरें खाके अपनी खुशियां सिमटता है सफ़र कैसा भी हो मग़र अपने दम पे चलता है तूफान ...

" />

RSS Feeds – IMC OnAir, India meets Classic…

news feed aggregation for Indian (Music) Culture, Music therapy, Music pedagogy, Radio/TV

बोल रहा हिन्दुस्तानी है – अमर उजाला


बोल रहा हिन्दुस्तानी है
अमर उजाला
तुम मुझे नहीं आजमाना इस जमाने में पुराने राह की मुसाफ़िर हूँ कोई मुझे क्या बतलाएगा बचपन से सातिर हूँ जो ठोकरें खाके अपनी खुशियां सिमटता है सफ़र कैसा भी हो मग़र अपने दम पे चलता है तूफान ...

Tagged as: